नई दिल्ली: केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया मई अंत तक पूरी हो जाएगी। पुरी ने कहा कि सरकार के सामने एयर इंडिया के निजीकरण करने या उसे बंद करने का ही विकल्प है। निजीकरण होने तक उसे इसे चालू रखना होगा।

वही इससे पहले 26 मार्च को केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि सरकार एयर इंडिया के विनिवेश को लेकर एक नई समय सीमा को लेकर विचार कर रही है, और फाइनेंसियल बिड्स मंगाने पर विचार हो रहा है। एक समारोह में बोलते हुए मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर सिविल एविएशन पुरी ने जानकारी दी कि एयर इंडिया के विनिवेश की प्रक्रिया पूरी होने तक इसे चालू रखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि एयर इंडिया को इससे पहले भी प्राइवेट करने की कोशिशें हुई थीं लेकिन पुरी के मुताबिक वह पूरे मन से नहीं किया जा रहा था, इसलिए सफलता नहीं मिली। पुरी ने कहा, ‘हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। या तो हमें इसका निजीकरण करना होगा या इसे बंद करना होगा।

हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि एयर इंडिया अब पैसा बना रही है, लेकिन अभी हमें प्रतिदिन 20 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। कुप्रबंधन की वजह से एयर इंडिया का कुल कर्ज 60,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है।

बता दे कि कोविड-19 के चलते हवाई यातायात पर बुरा असर पड़ा है। इस कारण चालू वित्त वर्ष में एअर इंडिया को 10 हजार करोड़ रुपए के नुकसान का अनुमान जताया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here